अंततः नाकाबंदी जैसने प्रादेशिक राजधानी के आन्दोलन भी बिना कवनों उपलब्धि के स्थगित, वीरगंज के नेता पर अदूरदर्शिता के आरोप

292
फाईल फोटो

वीरगंज, १९ चैत

वीरगंज के प्रदेश नं . २ के प्रादेशिक राजधानी बनावे के आन्दोलन पिछला नाकाबन्दी जैसने बिना कवनों उपलब्धि के समापन भइल बा । पुस २१ गते से आन्दोलन करत आरहल वीरगंज सङ्घर्ष समिति के आजू भईल बैठक से तत्काल खातिर आन्दोलन के समूचा कार्यक्रम स्थगित कईले बा ।

वीरगंज राजधानी संघर्ष समिति के सह संयोजक राजकुमार गुप्ता द्वारा समूचा कार्यक्रम तत्काल खातिर स्थगित कईल जानकारी देहनी ।

संघर्ष समिति द्वारा बितल पुस २१ गते से घण्टाघर तर शुरु कईल रिले अनशन, मशाल जुलुस, वीरगंज बन्द, छलफल लगायत के बिरोध के कार्यक्रम सब होत आवत रहे । संर्घष समिती द्वारा आजू मशाल जुलुस, छलफल, आ बिहान चैत्र २० गते वीरगंज बन्द के कार्यक्रम घोषणा कईले रहे।

सहसंयोजक राजकुमार गुप्ता के अध्यक्षता मे बैठल बैठक द्वारा विद्यार्थी लोग के परीक्षा आ समिति द्वारा नायाँ ढङ्ग से आन्दोलन के फेर से सुचारु करे खातिर तत्काल करत आ रहल कार्यक्रम सब के स्थगित करे के निर्णय लेहले रहे । राजधानी मुद्दा अभिन नईखे मरल क़हत नयाँ वर्ष फेर से आन्दोलन सुचारु होई के सहसंयोजक गुप्ताले जानकारी करवनी ।

बाक़िर मधेशवादी दलद्वारा कईल गइल पिछला नाकाबन्दी होखों भा अभिन के वीरगंज के प्रादेशीक राजधानी बनावेवाला आन्दोलन आवश्यकता से जादा लंबा दिन खिचला के चलते जनसमर्थन कमजोर होत गईला के कारण ही दुनु आन्दोलन बिना उपलब्धि के बन्द करेके नौबत आईल स्थानीयवासी के बुझाई बा ।

घंटाघर तर आपन वीरगंज से बात करत एक स्थानीय नंदलाल यादव के कहनाम रहे की वीरगंज के नेता लोग हचुवा के भर मे आन्दोलन करे लगेला माकिर आन्दोलन के उपलब्धि दिलावे ना सकेला, एसे वीरगंज सहर के नुक्सान त होखबे करेला साथे साथ ई नेतवन लोग के दूरदर्शिता पर भी सवाल खड़ा हो गईल बा ।

स्थानीय यादव साथ आईल रमेस के भी इहे धारणा राखत नेता लोग से उनकर प्रश्न रहे की अगर ऐसेही आन्दोलन बिना उपलब्धि के स्थगित होत रही त नेता लोग के साख मे बड़का प्रश्न चिन्न लाग सकेला, आगे से के आन्दोलन मे आई ?

advertisement

राउर टिप्पणी

राउर टिप्पणी लिखी
Please enter your name here