कुछ त ख्याल करि आपन मधेश के ईज्जत

184

कुछ त ख्याल करी आपन मधेश इज्जत के,
दिलाके शासन मधेशी भाइ के !
तराई हवे मधेश वांसी के,
इहुवां शासन चाहिँ मधेशी भाइ के !!
काहे नइखी समझत हे मधेशी भाइ आपन मधेश माटी के, काहे नइखी समझत हे मधेशी भाइ आपन मधेश समाज के……-(१)

बिकात बारे आज के मधेशी दलाल नेता,
दु-चार पैसा के लोभ देखइला से !
हक बेची मधेश के,
किनत बारे घर मकान के !!
काहे नइखी समझत हे मधेशी भाइ आपन मधेश माटी के, काहे नइखी समझत हे मधेशी भाइ आपन मधेश समाज के…… (२)

०६३/०७२ के आन्दोलन कइला से,
कुछ ना परल फरक इ देश समाज मे !
चुननीसन अगुवां खाएवाला के,
बेच देहलन इज्जत मधेश समाज के,
काहे नइखी समझत हे मधेशी भाइ आपन मधेश माटी के, काहे नइखी समझत हे मधेशी भाइ आपन मधेश माई के…….. (३)

होखे ना भेट मधेशी हाकीम से,
आफिस मे कवनो गइला से !
लागेना नोकरी मधेशी भाइ के,
मधेश के हक छिनइलासे !!
काहे नइखी समझत हे मधेशी भाइ आपन मधेश माटी के, काहे नइखी समझत हे मधेशी भाइ आपन मधेश माई के…….. (४)

काहे परल बा पिछे आपन मधेश समाज,
फिर से उठाई आवाज आन्दोलन के !
ख्याल करी मधेश समाज के,
मान, सम्मान, इज्जत दिलाई ई समाज के !!
काहे नइखी समझत हे मधेशी भाइ आपन मधेश माटी के, काहे नइखी समझत हे मधेशी भाइ आपन मधेश माई के…….. (५)

दिहल जाला पोस्ट(post) हाकिम के,
शासक लोग के सोर्स, फोर्स भइलासे !
मिले पोस्ट(post) आपन मधेशी भाइ के,
नोकर, चाकर के पोस्ट(post) खाली भइलासे !!
काहे नइखी समझत हे मधेशी भाइ आपन मधेश माटी के, काहे नइखी समझत हे मधेशी भाइ आपन मधेश समाज के……..(६)

छिना गइल हक मधेशी भाइ के,
कुर्सी के लोभ मे मधेशी नेता के बिकइला से !
फेर मधेश पछाडी होगइल,
अइसन स्वार्थी नेता भइला से !!
काहे नइखी समझत हे मधेशी भाइ आपन मधेश माटी के, काहे नइखी समझत हे मधेशी भाइ आपन मधेश माई के…….. (७)

Name:- Kanhaiya Chaurasiya
College:- National law College, Kathmandu
( 4th semester of B.A.LL.B Stream )        Address:- Birgunj

advertisement

राउर टिप्पणी

राउर टिप्पणी लिखी
Please enter your name here