चिकित्सकीय निष्कर्ष हिसाब से प्रहरी के यातना के कारण राम के मृत्यु

 चिकित्सकीय निष्कर्ष हिसाब से प्रहरी के यातना के कारण राम के मृत्यु

वीरगंज, १२ भादो ।

रौतहट मे प्रहरी  हिरासत मे राखल बिजय राम चमार के मृत्यु चरम यातना के कारण भइल प्रारम्भिक प्रतिवेदन देखवले बा । पोष्टमार्टम मे सामील चिकित्सक के हिसाब से बिजय राम के मृत्यु यातना के कारण भइल के जानकारी देहले बा लोग दलित अधिकारकर्मी मनोज राम जानकारी देहले ।

बिजय राम के डाढ़ मे रड़ के प्रहार भइला से ओकर असर गुर्दा (kidney) मे समेत परला के कारण उनकर मृत्यु भइल चिकित्सक  लोग निष्कर्ष निकलले बा लोग ।

बिजय के पार्थिव शरीर पोष्टमार्टम खातिर काल्हे रात के त्रिवि शिक्षण अस्पताल काठमाण्डू ले गइल गइल रहे । नेशनल मेडिकल कालेज शिक्षण अस्पताल वीरगंज मे बिजय के इलाज के समय मे भादों १० गते रात के १२ बजे मृत्यु भइल रहे । ओकरा बाद पोष्टमार्टम खातिर बिजय के मृत शरीर वीरगंज के नारायणी अस्पताल मे ले गइल रहे लोग ।

विजय के परिवारजन आ दलित अधिकारकर्मी लोग राम के पोष्टमार्टम त्रिवि शिक्षण अस्पताल महाराजगंज मे करे के अड़ान लेहला के बाद स्थानीय प्रशासन शव के उ लोग के सहभागिता मे ही काठमाण्डू भेजले रहे ।

घटना मे राष्ट्रीय मानव अधिकार आयोग समेत अनुसंधान शुरू कर देहले बा । विजय प्रहरी हिरासत मे रहल समय यतना देहल गइल बिषय पर आयोग के प्रवक्ता वेद भटराई जानकारी देहले बाड़े ।

आयोग विजय के स्वास्थ्य परीक्षण प्रतिवेदन के प्रतिलिपि तथा पोष्टमार्टम प्रतिवेदन के प्रतिलिपि तुरन्त उपलब्ध करावे के जिल्ला प्रहरी कार्यालय रौतहट आ त्रिवि शिक्षण अस्पताल, फरेंसिक विभाग महाराजगंज के पत्राचार कर चुकल बा ।

बिजय राम चमार रौतहट के गरुड़ा नगरपालिका – ८ के निरंजन राम के हत्या मे सामील रहल के आशंका मे प्रहरी द्वारा पकड़ाइल रहले । हिरासत के भीतरे बेमार परल बिजाय के इलाज के समय वीरगंज के नेशनल मेडिकल कालेज मे मृत्यु भइल रहे ।

एकरा से पहिले भी प्रदेश २ के धनुषा मे प्रहरी हिरासत मे शम्भू सदा के मृत्यु, प्रादेशिक अस्पताल जनकपुरधाम मे राजू सदा के मृत्यु, सप्तरी मे त्रिभुवन राम के हत्या, सिराहा मे रोशन राम के हत्या समेत मधेस मे दलित समुदाय ऊपर शृंखलावद्ध रूप से हत्या हिंसा आ जातीय विभेद के घटना सार्वजनिक होत आइल आयोग जानकारी करवले बा ।

Digiqole ad Digiqole ad

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *