भारतीय प्रम मोदी के अभिनंदन में भोजपुरी नईखे, काहे ?

244
वीरगंज, २६ बईशाख //
भारतीय प्रधानमंत्री नरेंद्र दामोदरदास मोदी बईशाख २८ गते शुक्रवार के दिन नेपाल के जनकपुर आ रहल बानीं। प्रधानमंत्री मोदी के जनकपुर के जानकी मंदिर में पूजा-अर्चना के कार्यक्रम बा । एह मोका प प्रदेश-२ के समूचा जनता के साथे-साथे पूरा नेपाल में हर्षोल्लास व्याप्त बा । प्रधानमंत्री मोदी के अईला से नेपाल-भारत के सम्बंध एगो ऊँचाई पर पुगी ई भरोसा बा । बाकिर ई हँसी-ख़ुशी का बीच पूरा नेपाल के भोजपुरिया समाज के मन तनका छोट हो गईल जईसन बुझाता ।
पिछलका ३-४ दिन से जबसे ई समाचार आईल बा जे भारतीय प्रधानमंत्री मोदी के अभिनंदन चारगो भाषा मैथिली, नेपाली, हिंदी आ अंग्रेज़ी में होई तभिए से भोजपुरिया समाज अपना-आप के अपहेलित महसूस कर रहल बा । प्रदेश न-२ के भोजपुरिया समाज के आम जन के मन का हुलास बा जे ई चारू भाषा के साथे-साथे अगर भोजपुरी भी रहअईत त बड़ा नीमन रहअईत ।
भोजपुरी भाषा, साहित्य आ संस्कृति खातिर काम कर रहल २०२८ साल में स्थापित संस्था ‘नेपाल भोजपुरी समाज, वीरगंज’ से जब आपन वीरगंज के टीम एह सम्बंध में जाने के चाहलख त समाजिक अभियंता आ नेपाल भोजपुरी समाज के सदस्य प्रकाश थारु जी बतवनीं “भारतीय प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के जनकपुर भ्रमण से हमनीं समूचा भोजपुरिया समाज गर्वित बानीं । ई हमनीं ला ख़ुशी के बात बा जे उहाँ हमनीं काप्रदेश न-२ के राजधानी आ रहल बानीं ।
लेकिन जब ई समाचार सुननी कि उनकर अभिनंदन भोजपुरी के अलावे चारगो भाषा में होई त मन में ई बात आईल कि भोजपुरीयो रहअईत त नीमन बात होखईत।” प्रकाश जी आगे कहनी कि “नेपाल भोजपुरी समाज से हम आ सचिव रितु राज एही संदर्भ में मुख्यमंत्री से जनकपुर में भेंट करे गई रहनी । मुख्यमंत्री जी कहनीं जे भारतीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नागरिक अभिनंदन कार्यक्रम में प्रदेश सरकार के कवनो भूमिका नईखे ।
ई अभिनंदन प्रदेश सरकार ना बलुकि जनकपुरवासी के द्वारा जनकपुर उप-महानगरपालिका करी । उहाँ के कहनी जे नागरिक अभिनंदन स्थानीय नागरिक के काम ह । अब उ जवन भी भाषा में करे । उनकर कहनाम बा कि चार गो भाषा मैथिली, नेपाली, हिंदी अंग्रेज़ी वाला बात ग़लत बा । कवनो एकेगो भाषा में होई । उहाँ के ई भी कहनी जे भोजपुरी कबो छूटी ना । भोजपुरी भाषा के साथे कबो भी अन्याय ना होई ।” आपन वीरगंज टीम जब नेपाल भोजपुरी समाज, वीरगंज के अध्यक्ष श्री रामदेव श्रीवास्तव से बात कईलख त उहाँ के कहनी” टीम के टोली मुख्यमंत्री से भेंटे गईल बा ।
अगर संतोषजनक उत्तर ना मिली त आगे सम्बंधित निकाय में आपन बात राखल जाई ।” भोजपुरिया जनसमाज में विभिन्न संचार माध्यम से अब ई बात भी उठे लागल बा जे जब चारगो भाषा में नागरिक अभिनंदन हो सकत बा त भोजपुरी मिलाके पाँच गो भाषा में काहे ना ? फ़ेसबुक, ट्विटर सहित अन्य समाजिक संजाल में ई ज़ोर-शोर से चर्चा के विषय बा ।
समाज के सचिव रितु राज बतवनी जे” माननीय मुख्यमंत्री से भेंट एकदम सकारात्मक रहल । उनका ओर से हमनी के भरोसा मिलल कि प्रदेश न -२ में भोजपुरी भाषा आ भाषी दूनू के साथे कबो भेदभाव ना होई । बाकिर जब ईहे संदर्भ में हम जनकपुर के आदरणीय मेयर साहब लालकिशोर साह से टेलीफ़ोन से बात कके निहोरा कईनी आ कहनी कि सम्पूर्ण भोजपुरीया समाज के रउआ से विनम्र आग्रह बा जे माननीय प्रधानमंत्री मोदी जी के नागरिक अभिनंदन में मैथिली, नेपाली, हिंदी, अंग्रेज़ी के साथे-साथे भोजपुरी भी रही त हमनी के करेजा जुड़ा जाई । उहाँ के कहनी कि अभिनंदन पत्र त छपाए चल गईल बा ।
उहाँ के ई भी ना कहनी जे कवन कवन भाषा में छपाता । उहाँ के बात में स्पष्टता के अभाव रहे । उहाँ के विस्तृत बात बाद में करेके कहनी । जब हम दोबारा टेलीफ़ोन कईनी त दोसर आदमी फ़ोन उठावत बा । हम ३-४ बार टेलीफ़ोन कर चुकल बानीं। लेकिन अब उनकर मोबाईल नईखे उठत । हम मैसेज भेजनी ह । देखीं का जवाब आव ता ! हमनी के पूर्णरूप से सकारात्मक बानीं । हमनी के पूर्ण विश्वास बा जे सम्पूर्ण भोजपुरिया समाज के मान राखल जाई ।
” ईहे सबके बीच जब आपन वीरगंज के रिपोर्टर जनकपुर के मेयर लालकिशोर साह से सम्पर्क करे के प्रयास कईलख त लगातार मोबाईल के घंटी बाजला के बाद भी उनकर मोबाईल ना उठल । मैसेज भेजला का बाद भी कवनो रिप्लाई ना आईल । अभी तक के जानकारी अनुसार भारतीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी बईशाख २८ गते सबेरे दस बजे जनकपुर चहुँपेम । क्षणिक विश्राम पश्चात उनकर जानकी मंदिर में पूजा-अर्चना के कार्यक्रम बा । ओकरा बाद नागरिक अभिनंदन के भव्य कार्यक्रम बा ।

 

advertisement

राउर टिप्पणी

राउर टिप्पणी लिखी
Please enter your name here