माधुरी के आत्माहत्या ना हत्या भइल बा : नइहरपक्ष के दाबी

217

वीरगंज २४ पुस,

नेपालगञ्ज उपमहानगरपालिका १० मे आत्महत्या कइल कहल २६ बरीस के माधुरी वर्णवाल के हत्या भइल दावी नइहर पक्ष कइले बा । वीरगंज के आदर्शनगर मे रहल वर्णवाल धर्मशाला मे पत्रकार सम्मेलन करके नइहर पक्ष माधुरी के हत्या भइल दावी कइले बाडन । उलोग माधुरी के परिवार मे पहिले से हि खटपट होत आइल उहे चलते योजनावद्ध हत्या करके आत्महत्या देखावे के खोजल दावी कइले बाडन ।

माधुरी वर्णवाल वीरगंज महानगरपालिका ६ अलखियामठ निवासी वेद प्रकाश वर्णवाल आ पुष्पा वर्णवाल के जेठ बेटी रहली । उनकर २०७४ साल अगहन महिना मे नेपालगञ्ज निवासी गोपीचन्द्र वर्णवाल के बेटा मनिष चन्द्र से हिन्दु परम्परा मुताविक वियाह भइल रहे । राष्ट्रिय विमा संस्थान मे कार्यरत माधुरी वियाह के बाद काम छोडले रहली । माकिर बितल पुस १८ गते उ आत्महत्या कइल आ उद्दार करके इलाज खातिर अस्पताल मे पुगइला पर मृत्यु भइल ससुराली पक्ष खबर पठइले रहे । मनिषचन्द्र औषधी व्यवसायी हउवन । उ चरक कम्पनी के पश्चिमाञ्चल डिष्ट्रिव्युसन के जिम्मेवारी सम्हारत आइल बाडन । पत्रकार सम्मेलन मे माधुरी के बाबु वेदप्रकाश वर्णवाल बेटी आत्माहत्या नइखी कइले उनकर हत्या भइल दावी कइनी ।

‘बेटी आ दामाद बिच पहिले से हि खटपट रहे, पुस १८ गते रात दामान मनिष हमनी दु बीच झगडा भइल सम्झा दिं कहले रहलन, ओकरा बाद बेटी से राखल मोबाइल मे फुन कइला पर घण्टी गइल माकिर ना उठल, चार पाँच बेर कइला पर भी ना उठला के बाद दामाद के फुन कइनी । माकिर व्यस्त बना के राखला के चलते फुन सम्पर्क होखे ना सकल रहे ।’ ‘उहे दिन रात ११ बजे अचानक सम्धी गोपीचन्द्र वर्णवाल फुन करके माधुरी आत्महत्या करेके कोशिस कइले रहली, उद्दार करके नेपालगञ्ज स्थित भेरी अस्पताल मे इलाज के समय मे मृत्यु भइल कहके जानकारी देहनी । हमनी पतियावे ना सकनी ।’ माधुरी के माई पुष्पा वर्णवाल बेटी के परिवार बहुते हि यातना देत आइल आ तीन महिना पहिले बेटा के दोसर बियाह करेके धम्की भी खुदसब के देहल सुनवनी । ‘तीन महिना पहिले सम्धिनी फुन से बेटा के दोसर बियाह करेके धम्की भी देहले रहली ।’ कहत उ ‘उलोग बेटी के हमनी से बढिया से खुल के बात भी करे ना देत रहलन’ शंकास्पद ट्याब, दहेज भी कारक नइहर पक्ष के मुताविक माधुरीे मनिष के टयब मे अवैध सम्बन्ध के प्रमाण मिलल बतवले रहली । ओकरा बाद उलोग बीच खटपट बढल रहे ।

माकिर मनिष उ सभी बियाह से पहिले के ह कहके माधुरी के भुलियावे मे सफल भइल रहलन । सँगे माधुरी के उनकर सास दहेज कम लिआवल कहके यातना देत आइल नइहर पक्ष के दाबी बा । माई पुष्पा के मुताविक बेटी के सम्धिनी ‘छोटी घर से आई है, कम दहेज ल्याई है, मेरे बेटे के लिए कम से कम एक गाडी तो देना चाहिए था’ कहके मानसिक यातना देहले रहली । वर्णवाल परिवार १८ लाख खर्च करके बेटी के विदाई कइले रहे । पुलीस भी उजुरी लेवेमे आनाकानी कइल आरोप बेटी के मृत्यु के खबर सुनला के बाद बाबु वेदप्रकाश लगायत के टोली नेपालगञ्ज पुगल रहे । उहाँ घटना के तोपताप करेके खोजल आ सुनियोजित हत्या कइल आशंका भइला के बाद पुलीस मे कर्तव्य ज्यान मुद्दा के उजुरी देवे गइल रहनी । आत्महत्या ना होके हत्या भइल दावी सहित उजुरी देवे गइला पर पुलीस उजुरी हि लेवेके ना मानल नइहर पक्ष के आरोप बा । वेद प्रकाश सँगे नेपालगञ्ज पुग के फिर्ता आइल मधुसुदन चौरसिया शुरु मे पुलीस कर्तव्य ज्यान मुद्धा के जाहेरी लेवेमे आनाकानी कइल बतवनी । ‘शुरु मे पुलीस मनिष के परिवार से कहल जइसन आत्महत्या हि भइल बात कइले रहलन । उलोग के कहनाम मुताविक जाहेरी देवेके कहले रहलन ।

माकिर हमनी ओकरा के स्वीकारे ना सकला के बाद उजुरी दर्ता करे खातिर तइयार भइलन’ कहत उ ‘पुस २२ गते उजुरी लेवे खातिर तइयार भइलन, मरद, सास आ ससुर के विपक्षी बना के कर्तव्य ज्यान मुद्धा दर्ता करा के आइल बानीसन् ।’ का करत बा पुलीस ? वेदप्रकाशल नेपालगञ्ज उपमहानगरपालिका ं १० रहेवाला २८ बरीस के मनिषचन्द्र वर्णवाल, उनकर बाबु ५५ बरीस के गोपीचन्द्र वर्णवाल आ माई ५० बरीस के राजकुमारी देवी वर्णवाल विरुद्ध कर्तव्य ज्यान मुद्धा मे किटानी जाहेरी देहले बाडन । जाहेरी के आधार मे पुलीस माधुरी के मरद मनिषचन्द्र के पकड के अनुसन्धान कर रहल बा । जिल्ला प्रहरी कार्यालय बाँके के प्रहरी प्रमुख प्रहरी उपरीक्षक अरुण पौडेल के मुताविक पुलीस माधुरी के मृत्यु भइल घटना के बारे मे गम्भीर होके अनुसन्धान कर रहल दावी कइले बाडन । पोष्टमार्टम रिपोर्ट ना आइल बतावत पुलीस उपरीक्षक पौडेल पोष्टमार्टम रिपोर्ट के बाद आउर बात प्रष्ट होखेके बतवनी ।

advertisement

राउर टिप्पणी

राउर टिप्पणी लिखी
Please enter your name here