याद ! (भोजपुरी कविता )

319

                                 याद !

गोपाल कुमार यादव

                 देखनी तब से मन भइल पागल
                 आपन बनावे के आश लागल
                     केनहु जाई छोडे ना साथ
                  दिल मे आवे खाली तोहरे याद ॥

                      जब सुते गइनी हम राती
                आइल ई दिलमे जोड से आँधी
                  सरसो के फूल दन से फुलावो
                      फागुन मे हमरो मन रंगावो ॥

सजव ले बानी रंगीन दरवाजा
इन्तजार तोहर बा अब तु आजा
चाहत के लोर से भिजल सिरानी
तडपाव मत अब तु आव रानी ॥

याद से नली फुट के बहे खुन
स्वागत मे बजता कोयल धुन
   अजोर करे अब तु आव
याद के तारा धर्ती पर सजाव ॥

गोपाल कुमार यादव,
एम.बि.बि.एस, बि.पी.के.आइ.एच.स धरान

advertisement

राउर टिप्पणी

राउर टिप्पणी लिखी
Please enter your name here