वीरगंज जी एच पी स्कूल के हॉस्टल से ६ क्लास के लईका अमित गायब, वीरगंज प्रहरी जुटल खोजतलाश मे

    488

    वीरगंज, १५ भादो ।

    वीरगंज पावर हाउस के नियारा रहल जीएचपी स्कूल से एगो बिधार्थी तीन दिन से भुलाइल बाड़े । जीएचपी स्कूल के कक्षा ६ सेकसन बी मे पढ़ रहल १३ साल के बिधार्थी अमित कुमार चौरसिया एकाएक गायब हो गईल बाड़े । बियफे के दिन के करीबन ३ बजे से ही अमित समपर्क से बाहर भइला पर उनकर पारिवारिक स्थिति बहुते चिंताजनक बनल बा ।

    अमित पर्सा जिल्ला के कालिकामाई गांवपालिका – २ भेड़िहारी घर रहल पन्नालाल चौरसिया के सब से छोट बेटा हउवे । पन्नालाल के परिवार वीरगंज महानगरपालिका – १३ के राधेमाई मे रहत आइल बा लोग । महिना के १२ हजार रोपेया शुल्क दे के अमित के बितल बैशाख मे जीएचपी स्कूल के हॉस्टल मे राखल गईल रहे ।

    बेटा भुलाइला के तीन दिन बितला पर भी अभी ले कुछो मालूम नईखे चलल अमित के बाबू पननलाल चौरसिया बतवले । बेटा जीएचबी मे बाडर्स कर के रखला से हमनी बी निश्चिंत रहनी । स्कूल से ही बियाफ़े के ५ बजे लगभग अचानक लईका घरे आइल बा का ? बिधालय मे राउर लईका नईखे ? कह के प्रशासन से फोन आइल रहे । बढ़िया होई कह के हास्टल मे रखनी माकिर एतना कईला के वावजूद लईका स्कूल से ही भुला गईल ।

    ’बिधालय के सीसीटिभी मे दिन के ३ बज के ७ मीनट पर छूटी के समय मे दु जने बिधार्थी के पीछे पीछे अमित बिधालय से बाहर जात देखाई देहले बाड़े । बिधालय के लापरवाही से ही बेटा भुलाइल आरोप अमित के बाबू पन्नालाल लगवले बाड़े । बोडर्स कईल बिधार्थी बिना गेटपास के कोई के ना देवे ला लोग । हॉस्टल मे भइल बिधार्थी के बारे मे बिधालय के ध्यान देवे के चाहित माकिर बिधालय सरासर लापरवाही कईले बा, उ कहले ।

    चारुओर खोजला के बाद लईका ना मिलला पर परिवारिक माहोल तनावपूर्ण बनल बा । तीन दिन हो गईल अभी ले बेटा नईखे मिले सकाल । रिश्तेदारी मे चारुओर खोजबिन हो गईल । परिवार के सारा सदस्य लईका भुलाई के पीड़ा मे जी रहल बा लोग । बिना कुछ कहले लईका कतहु चल गईला से चिंता बढ़ रहल बा लईका के बाबू बतवले ।

    बेटा के खोजे लाय प्रहरी मे भी खबर क देहल गईल बा अमित के चाचा जानकारी करवले । जिल्ला प्रहरी कार्यालय पर्सा के डीएसपी गौतम थापा लईका भुलाइल के जानकारी आइल बा आ लगलिए अनुसन्धान भी शुरू हो चुकल बा जानकारी देहले । लईका स्कूल से भुलाइल कह के जानकारी मिलल बा । उ कहले, स्कूल आ परिवार के सदस्य लोग बीच समन्वय क के हमनी खोज तलाश के काम आगा बढ़ा देहले बानी ।

    advertisement

    राउर टिप्पणी

    राउर टिप्पणी लिखी
    Please enter your name here