वीरगंज मे घरे मे रह के तीज पर्व मनावल जा रहल, अलखिया मठ सहित के देवालय बन्द

 वीरगंज मे घरे मे रह के तीज पर्व मनावल जा रहल, अलखिया मठ सहित के देवालय बन्द

वीरगंज, ०५ भादो ।

भादो शुक्ल पक्ष तृतिया के दिन मनावे जाएवाला तीज आजू भगवान शिव के आराधना करत मनावल जा रहल बा । आज के दिन निर्जल व्रत रह के शिव पार्वती के पूजा, उपासना कईला से सुख, शान्ति आ परिवार के कल्याण होखेला अइसन धार्मिक आस्था आ विश्वास बा ।

शिव पार्वती के पूजा कईला के बाद नाचगान करे के चलन भी बा । कोरोना वायरस संक्रमण के जोखिम के कारण यी साल तीज मनावे खातिर समूहिक जमघट पर सार्वजनिक रूप से सरकार द्वारा रोक लगावल गईल बा । भीड़ ना होखे एही से वीरगंज के अलखिया मठ समेत देवालय आ मन्दिर सब भी बन्द कईल गईल बा । मठ मन्दिर बन्द आ समूहिक जमघट पर रोक लगावला के कारण यी साल महिला लोग घर मे ही शिव पार्वती के आराधना कर के तीज माना रहल बा लोग ।

भविष्य पुराण अनुसार आजूवे के दिने निराहार व्रत रह के पार्वती जी शिव के आराधना कर के उनका के आपन स्वामी के रूप मे प्राप्त कईले रहली एही से तीज के व्रत कईला से महिला लोग के मनोकामना पूरा होखेला विश्वास रहेला । निराहार ही व्रत कईल जाला कह के बाध्यता नईखे धार्मिक साधक चैतन्य वासुदेव आपनवीरगंज से बात करत जानकारी करवले ।

निराहार, जलाहार आ फलाहार कर के तीन तरीका से सकेवाला निराहार, नासकेवाला जलहार भा फलाहार व्रत करे के नियम बा साधक कहले । स्वास्थ्य ठीक ना भइल लोग गहू के रोटी, मकई के रोटी भा फलफूल के फलाहार कर सकल जाता जानकारी करवले ।

अटल सौभाग्य के कामना खातिर, सन्तान प्राप्ति खातिर, कूवारी लड़की आ लड़का लोग असल वर आ वधू प्राप्ति खातिर भी तीज के व्रत राखल जा सकता शास्त्रीय विधान रहल धर्मशस्त्र के जानकार साधक वासुदेव बतवले । समग्र मे मनोकामना पूर्ण होखे खातिर आ पूरा परिवार के कल्याण के खातिर व्रत के प्रयोजन रहल धर्मशस्त्रीलोग के मत रहल बा ।

बियफे के दिने सरगही खा के औपचारिक रूप से शुरू होखेवाला तीज पर्व ऋषि पंचमी तक मनावल जाला । तृतीय के दिन हरितालिका व्रत, चौथी के दिन गणेश भगवान के पूजा आ पंचमी के दिन स्नान कर के अरुंधती सहित सप्तऋषि के पूजा कर के तीज व्रत के समापन कईल जाला ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *