समय पर काम पूरा ना करेवाला निर्माण कम्पनीसब के जिल्ला प्रशासन द्वारा तथ्याङ्क राखल सुरू

143

वीरगंज २२ माघ,

जिल्ला प्रशासन कार्यालय पर्सा विकास के काम के जिम्मेवारी लेके काम ना करेवाला निर्माण कम्पनीसब के लगत राखल सुरु कइले बा । निर्माणाधीन विकासे आयोजनासब के काम पुरा करेके सम्झौता के समय ओरइला पर भी काम पुरा ना करेवाला निर्माण कम्पनीसब के लगत राखेके काम सुरु कइले बा ।

पोखरीया नगरपालिका, पूर्वाधार विकास कार्यालय वीरगंज, सघन शहरी तथा भवन निर्माण आयोजना पूर्वाधार विकास कार्यालय आ नारायणी सिँचाइ व्यवस्थापन कार्यालय मार्फत सञ्चालित अनेकन योजनासब के जानकारी जिल्ला प्रशासन कार्यालय प्राप्त कइले बा । उ कार्यालय अन्र्तगत रहल २४ गो आयोजनासब मेसे अधिकांश आयोजना के म्याद ओराइल बा माकिर काम पुरा होखे नइखे सकल ।

निर्माण पुरा ना भइल आयोजना मे अधिकांश नाला, सडक आ स्वास्थ्य संस्था के भवन रहल बा । चालु आर्थिक बरीस मे पोखरीया नगरपालिका ५०/५० लाख मे ठेक्का लगावल ११ गो सडक आ नाला निर्माण सम्बन्धी आयोजना के निर्माण के प्रगति सन्तोष जनक नइखे । गौरिशंकर निर्माण सेवा से जिम्मा लेहल नाला बनावे के काम बाहेक आउर सभी निर्माण कम्पनीसब सँगे भइल सम्झौता के समय ओराइल बा । कारबाही के चेतावनी देहला पर भी वास्ता ना कइलन ठेकदार, दश गो आयोजनासब पुस १५ गते भितर पुरा करेके भइला पर भी प्रगति १० से बेसी मे ७० प्रतिशत मात्र बा ।

पोखरीया नगरपालिका के नगर प्रमुख दिपनारायण रौनियार काम समय मे पुरा ना कइला पर कानून बमोजिम कारबाही करेके चेतावनी देहला पर भी ठेकेदार से वास्ता ना कइल बतवनी । ‘खास करके वार्ड नं २, ३, ८ आ ९ नम्बर मे सञ्चालित आयोजना के प्रगति एकदमे खराब बा । हमनी बेर बेर ताकेता कइला पर भी खासे सुनुवाई नइखे भइल । आउर बितल अनेकन समय मे बढिया काम कर रहल बाडन । उ आयोजना के तीन/तीन महीना म्याद थपेके तइयारी हो रहल बा, कहत उ, ‘मुद्दा मामिला मे जाएके से भी कइसे काम लेहल जा सकता कहके ओरी हमनी के ध्यान केन्द्रित बा । ना होखी त कारबाही प्रक्रिया मे जाहीं के पडि ।’ स्थानीय ठेकेदार भइल जगहा मे आउर काम मे ढिलासुस्ती देखल गइल अनुभव सुनवनी ।

सघन शहरी तथा भवन निर्माण आयोजना अन्तर्गत भेडियारी, देउरवाना, सम्भौता, औराहा, पटेर्वा सुगौली, शंकर सरैया के स्वास्थ्य चौकी भवन, भिखमपुर प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र भवन लगायत के योजना के सम्झौता समय ओरइला पर भी काम पुरा होखे नइखे सकल । काहे आयोजना समय मे पूरा ना कइल ? पुछे खातिर उ आयोजना निर्माण के जिम्मा लेवेवाला ठेकदार प्रतिनिधिलोग से सम्पर्क कइला पर उलोग सम्पर्क मे आवेके ना चहलन ।

पूर्वाधार विकास कार्यालय अन्तर्गत पप्पु कन्स्ट्रक्सन से लेहल जनता सडक के प्रगति ८९ प्रतिशत मात्र बा आ श्री गौरि पार्वती निर्माण सेवा से ठेक्का लेहल आत्मराम पथ के प्रगति ८५ प्रतिशत मात्र रहल कार्यालय जनवले बा । एहीतरे नारायाणी सिँचाइ व्यवस्थापन कार्यालय अन्तर्गत ठेक्का मे रहल जमुनी सिँचाइ आयोजना के प्रगति ९० प्रतिशत बा । जेकर ठेक्का कुमार/आशिष आ अमर जेभी लेहले बा ।

नारायणी सिँचाइ प्रणाली सम्बन्धी काम कर रहल अंकित कन्स्ट्रक्सन ६० प्रतिशत मात्र काम पूरा कइले बा । सम्झौता मुताविक के काम ना करेवाला के सम्बन्धित निकाय कारबाही भी करे ना सकला से उलोग के मनोबल बढ रहल बा । निर्माण कम्पनीसब २०६८ साल मे दु बरीस मे निर्माण पुरा करेके कहके लेहल ठेक्का के काम पाँच बरीस बितला पर भी पुरा ना कइल मिलल बा । निर्माण के खातिर ठेक्का लेवेके माकिर अनेकन बाहना देखा के निर्माण ना करेवाला प्रवृत्ति देखल गइला के बाद जिल्ला प्रशासन कार्यालय भौतिक प्रगति विवरणसब मांग करत ओकर अनुगमन निरीक्षण सुरु कइले बा ।

जिल्ला प्रशासन कार्यालय पर्सा से उपलब्ध करावल विवरण मुताविक सम्झौता अवधि बाँकी रहल आयोजना के भी भौतिक प्रगति अध्ययन कइला पर समय मे काम पूरा होखेमे आशंका बा । सम्झौता ओरइला पर भी काम पुरा ना करेवाला कम्पनी आयोजना के सम्झौता समय पुरा भइला पर भी काम पुरा ना करेवाला कम्पनीसब मे संदिप कन्सट्रक्सन, राजन निर्माण सेवा, गौरीशंकर निर्माण सेवा, अर्चना कन्स्ट्रक्सन, जिएन कन्स्ट्रक्सन, स्नेहा कन्स्ट्रक्सन, सलोनी कन्स्ट्रक्सन, कुशल कन्स्ट्रक्सन, सोनी कन्स्ट्रक्सन, सजवन निर्माण सेवा, ओमसाई निर्माण सेवा आ श्री गौरी पार्वती निर्माण सेवा रहल बा । एहीतरे पप्पु कन्स्ट्रक्सन, स्वस्तिक श्री विनायक कन्स्ट्रक्सन प्रालि, शिवराम कन्स्ट्रक्सन, म्यागलुङरटौदहरपञ्चकन्या जेभी ललितपुर, विशाल एण्ड विराट कन्स्ट्रक्सन प्रालि जोरपाटी, पप्पु आ तिरुपती जेभी, मोना/अंकित जेभी, अजम्बर/शिवराम कन्स्ट्रक्सन, कुमार/आशिष/अमर जेभी निर्माण कम्पनी भी समय मे काम पुरा नइखे कइले ।

ई सभी कम्पनी सम्बन्धित कार्यालय से ५० लाख से २२ करोड तक के आयोजना निर्माण के ठेक्का लेहले बाडन । ठेक्का लेवेके माकिर समय मे काम ना करेवाला मनमानी से ही विकास निर्माण के काम अगाडि बढे ना सकल सिकाइत बढल बा । अधिकांश स्थानीय ठेकदारलोग ही रहल आ कैयन लोग पेटी ठेकेदार के रुप मे भी काम कर रहला से अपना मुताविक ना भइला के बाद काम ही रोकल स्थानीय बतावेलन ।

विकास निर्माण के बारे मे बहुते सिकाइत अइला के बाद प्रशासन अनेकन कार्यालयसब संगे निर्माण सँगे सम्बन्धित आयोजना के प्रगति विवरण मांग करके विश्लेषण कइला के साथे पुरा होखेके बाँकी आयोजना पुरा करे खातिर जरुरी सहजिकरण कर रहल प्रमुख जिल्ला अधिकारी नारायणप्रसाद भट्टराई जानकारी देहनी ।

‘तोकल गइल समय मे काम पुरा ना करेवाला निर्माण व्यवसायीलोग उपर निगरानी बढावल गइल बा । ठेक्का लगावे खातिर सम्बन्धित कार्यालयसब के जलदी पुरा करावे के कहके प्रशासन से ताकेता कर रहल बा,’ कहत उ, ‘कैयन आयोजनासब मे पहीले विनियोजन कइल बजेट फ्रिज भइल बा । नयाँ पइसा नइखे आइल, काम कइला पर भी ठेकेदार के पइसा त देवेके पडि, ओइसन पइसा जरुरी भइला पर सम्बन्धित कार्यालय के उपरला निकाय से मांग करे खातिर कहल गइल बा । पइसा होके भी काम ना कइला पर जे दोषी बा उनका के कारबाही करे खातिर प्रशासन तइयार बा ।’ निर्माण कम्पनी के आवेवाला समस्यासब समाधान करेके आ लापरवाही करेवाला ठेकेदार के कारवाही के दायरा मे लिआवे के बतवनी ।

नियमित होखेवाला कार्यालय प्रमुख बइठक मे विकास निर्माण से सम्बन्धित विषय के एजेन्डा ही बना के छलफल कर रहल उनकर कहनाम बा ।

advertisement

राउर टिप्पणी

राउर टिप्पणी लिखी
Please enter your name here