संस्कृतिक कार्यक्रम के अद्भुत प्रदर्शन, सुदूर पश्चिम साहित्य समाज जनकपुर में

751
जानकी मंदिर के प्रांगण मे सुदूर पश्चिम साहित्य समाज पश्चिम के पहिचान सहित के संस्कृति नृत्य प्रदर्शन

राजेश अभिराज यादव

जनकपुरधाम, २० चईत

प्रदेश न. २ के राजधानी जनकपुर के जानकी मंदिर के प्रांगण मे सुदूर पश्चिम साहित्य समाज पश्चिम के पहिचान सहित के संस्कृति नृत्य प्रदर्शन कईलख । देश दर्शन अभियान के तहत मंगर के दिने सबेरे प्राचीन मिथिला के राजधानी आ २ न. प्रदेश के अस्थायी राजधानी जनकपुर पहुचल साहित्य समाज के टोली संस्कृति कार्यक्रम प्रस्तुत कईलख ।

सुदूर पश्चिम के पहिचान लाउके वाला भेष मे सजधज के बाजा बजनिया के साथ आईल समाज के ४५ जने कलाकार के टोली गौरा, राईझूमा, घुर्कोलि, छलिया, होरी सहित के नाच प्रदर्शन कईलख लोग । समाज द्वारा प्रस्तु कईल संस्कृतिक कार्यक्रम देखे खातिर जानकी मंदिर के  प्रांगण मे दर्शक लोग के भीड़ लागल रहे ।

यी कार्यक्रम के अवसर पर मिथिला के संस्कृति वाला नृत्य भी प्रस्तुत कईल गईल । प्रदेश न. ७ के राजधानी धनगढ़ी से बितल चईत १५ गते शुरू भईल समाज के देश दर्शन यात्रा मंगर के दिने जनकपुर मे आके संस्कृतिक कार्यक्रम कईलख ।

संस्कृति सभे नेपाली जनता के साझा भईला से संस्कृति के आदान प्रदान करे के आ आंदोलन के बदौलत टुटल मनके संस्कृति के माध्यम से जोड़े के १७ दिने देश दर्शन अभियान मे निकलल अभियान के संयोजक यज्ञराज उपाध्याय बतवले । संस्कृति के आदान प्रदान से संबंध बरियार बनावला के साथे सुदूर पश्चिम के भाषा, साहित्य आ संस्कृति के परिचय करावल भी अभियान के उदेश्य रहल संयोजक उपाध्याय के कहनाम रहल ।

उपाध्याय कहले, बैशाख १ गते सम्पन्न होखेवाला यी अभियान अंतर्गतपु पूरब मे देश के अनेकन भाग सहित भारत के कुछ जगहन पहुच के संस्कृतिक कार्यक्रम करे के जानकारी देहले । जानकी मंदिर मे पहुचल अभियान टोली के जनकपुर बासी लोग स्वागत कईले रहे । जनकपुर मे एह अभियान कार्यक्रम के राष्ट्रीय मानव अधिकार आयोग, क्षेत्रीय कार्यालय जनकपुर प्रमुख दीपेन्द्र सिंह आ मानव अधिकार कर्मी बिजय दत सहयोग कईले रहले ।

advertisement

राउर टिप्पणी

राउर टिप्पणी लिखी
Please enter your name here