The biggest Bhojpuri digital media of Nepal

स्थानीय सरकार के सफलता खातिर सहमति–सहकार्य

वीरेंद्र प्रसाद यादव

गभग साठ वर्ष के संघर्ष के फल स्वरूप एकतंत्रात्मक राजतंत्र के छोड़Þके मुलुक आज संघीय गणतंत्रात्क व्यवस्था में पुगल बा । हलाँकि संविधान अभीन पूर्ण त नइखे, बहुत कुछ खामी देखावलो जा रहल बा, बाकिर एह व्यवस्था में पुगल मुलुक आ जनता खातिर उपलब्धि त हवे ही विभेद के अंत आ समृद्धि के प्रमुख आधार भी हवे । काहे कि विश्व में बहुत सारा मुलुक लोकतांत्रिक रूप से विकसित भइल बा जवना में संघीय शासनको बहुत होत बा । मुलुक भीतर के विभेद भी अंत करे में संघीय शासन के बहुत भूमिका रहल । अमेरिका, भारत जइसन विविधता से भरल मुलुक में नागरिक एकता आ विकास के पूर्वाधार बनावे में संघीयता के बहुत भूमिका रहल बा । स्वीटजर लैंड जइसन छोट मुलुक भी आज विकसित आ नमूना मुलुक के श्रेष्णी में परता । दक्षिण अफ्रिका में रहल सयकड़ो बरष के गोरा–काला के विवाद भी संघीयता के माध्यम से ही अंत भइल बा । कुछ मुलुक में संघीयता से प्रतिकूल प्रभाव भी परल बा जइसे इथियोपिया, नाइजेरिया । एह दृष्टांत सब से इहे कहल जा सकता कि संघीयता विकास आ विभेद अंत के एगो आधार त हवे बाकिर सर्वेसर्वा ना हवे । संघीयता आपन उद्देश्य में तबे सफल होई जब संघीयता के बँढि़या तरिका से लागू कइल जाई । व्यवस्था प्रति हरेक जनता के एकता आ सहमति होई । कवनो किसिम के विवाद राखके अगाड़ी बढ़ला से कवनो भी व्यवस्था सफल होखे में चुनौती बा । नेपाल में त विविधता अनेको बा । इहाँ के विभेद भी बहुत किसिम के बा । इहे लंैगिक, क्षेत्रीय, सामुदायिक, जातीय, धार्मिक लगायत के दर्जनो विभेद बाड़सन जवना के अंत ना होई त नया व्यवस्था के अगाड़ी भी बहुत चुनौती आई ।

आम जनता के दलीय विवाद ना, समाजिक विकास के जरूरी बा । सामाजिक विकृति–विसंगति अंत के आवश्यकता बा । 

अभी मुलुक से राजतंत्र अंत होके संघीयता लागू भइल बा जवना में एगो सरकार से आज अनेक सरकार बनल बा । ७ सय ५३ गो स्थानीय सरकार बा ७ गो प्रदेश सरकार आ एगो केंद्रीय सरकार । एसो ई बात प्रष्ट होता की एगो सिंहदरबार में रहल शक्ति देश के कोना–कोना में पुगावल बा । हरेक जनता के घर घर में अधिकार पुगावल बा । पहिे खाली सिंह दरबार से ही कानून बनत रहे बाकिर अभी हरेक गाँव–गाँव में कानून बनावे के अधिकार बा । संविधान से ई अधिकार पावल आ स्वायत्त संसद आ सरकार बनल बहुत खुशी के बात हवे बाकिर ई स्थानीय आ प्रदेश सरकार के सफलता भी ओतने जरूरी बा । पावल अधिकार कानून एवम न्याय पूर्वक प्रयोग ना होई त नाफा से जादा नोक्सान हो सकता । संघीयता विफल भी हो सकता । ओ से अभी विशेष करके स्थानीय सरकार आ प्रदेश सरकार के बहुत गंभीर होके आपन भूमिका निर्वाह कइल जरूरी बा । स्थानीय सरकार आ प्रदेश सरकार के बहुत सारा अधिकार मिलल बा बाकिर सब अधिकार प्रयोग करे खातिर कानून बनाके ही करेके परी बिना कानून बनइले कवनो काम ना करेके होई । बिना कानून बनवले काम होई त अराजक त होखबे करी अख्तियार के कारवाई में भी परे के परी ।

२२ गो विषय में स्थानीय सरकार के कानून बनावे के अधिकार बा जवन गाँव परिषद से ही बनी । साल में २ बेर मात्र सभा बोलावे के अधिकार बा । गाँव भा नगर सभा में कानून ना बनी त फेर समस्या हो जाई । ओ से सभा स के औपचारिका में सीमित ना करके कानून बनावे में प्रयोग कइल जरूरी बा । स्थनीय सरकार संचालन ऐन, २०७४ आ संविधान में व्यवस्था भइल मुताविक के समिति भा कानून बनाके अब सब विषय से आर्थिक स्रोत के व्यवस्थापन आ परिचालन में ध्यान देवल जरूरी बा । अभी के स्थानीय निकाय के व्यवस्था देखल जाव त पहिले के व्यवस्था से बहुत फरक बा । अभी सब स्थानीय निकाय में कार्यपालिका, व्यवस्थापिका आ न्यायपालिका तीनू अंग के व्यवस्था बा । जवना में व्यवस्थापिका के काम बा कानून बनावेके कार्यपालिका के काम बा सरकार संचालन करेके आ न्यायपालिका के काम बा तोकल विषय में परल उजुरी पर फैसला करके विवाद के अंत करेके । एह अंग के व्यवस्थापिका संविधान आ कानून में व्यवस्था भइला के बावजुद भी अभी तक प्रायः स्थानीय निकाय में न्यायिक समिति के गठन भइल नइखे लागत । स्थानीय निकाय सब के आपन नियमावली तक बनल नइखे लागत । हरेक स्थानीय तह में कानूनी सलाहकार के व्यवस्था कइल एकदम जरूरी बा फिर भी कानूनी सलाहकार भी सब निकाय में नइखे गठन भइल ।

अभी भी चुनावी प्रतिस्पर्धा के असर स्थानीय निकाय में बा जवना से जनप्रतिनिधि में ही एकता नइखे देखाई देत । जनप्रतिनिधि में एकता ना भइला से विकास अवरुद्ध त बड़ले बा जनसेवा भी प्रभावित भइल स्वभाविक बा । बहुत जगह अध्यक्ष आ उपाध्यक्ष अलग अलग पार्टी से जीतल बा । बहुत जगह अध्यक्ष अल्पमत में बा त उपाध्यक्ष बहुमत में जवन एगो बड़का चुनौती बा । बैठक बोलावे के अधिकार अध्यक्ष के बा, अध्यक्ष के बहुमत ना भइला से बैठक ही बैठे नइखे सकत । जवना से शुरुवाती काम सब ही अवरुद्ध बा । इहे अवस्था रहल त विकास प्रभावित त होखबे करी, पहिले से भी खराब अवस्था हो सकता । जनप्रतिनिधि चुनाव में जीतला के बाद ऊ कवनो पार्टी के मात्र ना हवे । ऊ सब जनता के हवे, ओसे जीतला के बाद पार्टी के नजर से ना देखके जनता आ विकास के नजर से सोचे के परल । कहीं विकास ना होई त अगिला दिन में जनता जनप्रतिनिधि के व्यक्तिगत रूप से जवाफदेहिता खोजी जवना से भविष्य खतरा में पर सकता ।

अभी के स्थानीय तह बीच के विमती के समाधान खातिर प्रदेश सरकार के समन्वयात्मक भूमिका निर्वाह कइल जरूरी बा । सब के अभिभावकत्व के दायरा से सहमति–सहकार्य करावल जरूरी बा । जवना से आम जनता में जनप्रतिनिधि बीच के विमती के गंध ना पुगो । आम जनता के दलीय विवाद ना, समाजिक विकास के जरूरी बा । सामाजिक विकृति–विसंगति अंत के आवश्यकता बा । विभेद के अंत के आ अपराध के निर्मूलीकरण के आवश्यकता बा । ई जन चाहना पुरा करे खातिर जन प्रतिनिधियन के बीच में एकता–सहकार्य होखही के परी । आशा कइल जाओ जनप्रतिनिधि लोग दलीय घेरा से ऊपर उठके आपस में एकता आ सहकार्य करी लोग ।

प्रतिकृया
Loading...