The biggest Bhojpuri digital media of Nepal
Browsing Category

धार्मिक

बजड़ी से बजड़ भईल भाई-बहीन के सनेह, धूमधाम से मनल गोवर्धन पूजा

वीरगंज, कातिक २३ आजू शुकरवार के दिन पूरा मधेश में बहीनलोग गोवर्धन पूजा का बाद भाई के बजड़ी खिया के उनकर लमहर उमिर के कामना कईलख लोग। गोवर्धन पूजा के लेके आजू सवेरही से ही औरतन लोग नहा धोके गाँव-शहर के चउक-चौराहा प गाई के गोबर से मूर्ति बनाके ओकरा के कूटके भाईयन लोग के […]

भोजपुरिया संकृति : बजड़ी विशेष – सरापे के,मुआवे के, जियावे के आ बजड़ी खिया के भाई के बज़्जड बनावे…

भोजपुरी संस्कृति एगो समृद्ध संस्कृति हऽ । भोजपुरिया लोग जहाँ जहाँ बइठल बा आपन संस्कृति के जोगा के रखले बा । ऊ लोकगीत होय भा संस्कार लोकगीत होय, हर चीज भोजपुरिया महासागर में अँटाइल बा । जन्म से लेके मरन तक लोकगीत भोजपुरिया समाज के विशेषता हऽ। दुनिया के अन्य संस्कृति से दुर्लभ बात हमनी […]

पबनी-तेहारः मिथक आ यथार्थ

नेपाल के पहाड़ी समुदाय में एगो मुहाबरा अति प्रचलित बाः– आइल दसईं ढोल बजावत । गइल दसईं रीन चढ़ावत ।। एसवो दसईं के मुख्य आकर्षण नवराता आ दसोदुरा ओरा गइल बा । कोजाग्रत पुरनमासी का साथे बाँकी धुमधड़ाका भी शांत हो गईल । एकरा बाद नया अन आ पुरान बस्तर पर गुजारा करेवाला लोग खासकके […]

भाई-बहिन के अटूट प्रेम के प्रतिक ‘सामा चकवा’, रउओ जानी का बा ऐकर पौराणिक कहानी !

भोजपुरिया संस्कृति में प्रेम प्रतिक ‘सामा चकवा’ सारा सृष्टि एगो प्रेम के डोरा में बन्धाइल बा । जेह दिन ई प्रेम रुपि डोरा टुट जाई ओह दिन सृष्टि के प्रलय निश्चित बा । मानव सभ्यता के शुरुवात से ही कवनो ना कवनो रुप में हमनी के समाज जे प्रेम के स्थान बा, जवना के चलते […]

समतामूलक समाज के प्रतिविंब छठ पर्व

समतामूलक समाज के प्रतिविंब छठ पर्व खुशी आ गम के एक–दोसरा से साझेदारी कके जीअल मध्यदेशीय संस्कृति ह । मध्यदेश के एगो लमहर हिस्सा भोजपुरी समुदाय ओकर अव्वल दर्जा के उदाहरण बनल बा । उत्सव आ दुःख–पीड़ा के समाज में एक–दोसरा से पैंच–पालट कके मनावे के परंपरा रहल बा । ओहू में छठ त समानता, […]

छठ पबनी – नेपाल विशेष

छठ पबनी – नेपाल विशेष सूर्यदेव के श्रद्धा भक्तिपूर्वक आराधना आ पूजा कर के मनावेवाला छठ पबनी आजू से काठमाण्डु मे भी शुरु हो गइल बा । कातिक शुक्ल चतुर्थी से सप्तमी तक मनावेवाला ई पबनी मे ब्रतालु पहिलका दिने स्नान कर के निरइठ रहल गइल । ई दिन से छठ पबनी ना ओराए तक व्रतालु […]

रमजान मुबारक !

रमजान मुबारक ! मुसलमान समुदाय के महान परव रमजान आजू से शुरु हो रहल बा । एक महिना तकले चलेवाला रमजान मे मुसलमान धर्मावलम्बी लोग उपवास करेला लोग । जेकरा के ‘रोजा’ कहल जाला । बियफे से सुरु होखे वाला रोजा पर आपन वीरगंज परिवार के तरफ से मुस्लिम भाइ-बन्धु लोग के पवित्र महिना रमजान […]

छठ के बैज्ञानिक महत्व !

छठ के बैज्ञानिक महत्व छठ पवनी के धार्मिक, साँस्कृतिक, समाजिक, ऐतिहासिक, पर्यटकिय लगायत बहुत महत्व होते हुवे भी आज के बैज्ञानिक यूग में जवन पवनी आ सँस्कृति के बैज्ञानिक महत्व होला ओह पवनी आ सँस्कृति के ब्यापता आ प्रचार प्रसार संसार भर भइल बा जेमे से एगो छठ भी ह । बैज्ञानिक नजरिया से देखला […]

भोजपुरी रामायण पर एक नजर

भोजपुरी रामायण पर एक नजर ओमप्रकाश जायसवाल, वीरगञ्ज के प्रकाशन में मुकुंद आचार्य भानुभक्तीय रामायणको भोजपुरी अनुवाद भोजपुरियन के बीच में लेआइल बाड़न । यह ‘भोजपुरी रामायणः भानुभक्त रामायण के भोजपुरी अनुवाद’ खातिर अनुवादक आचार्य र प्रकाशक जायसवाल दूनू जने बधाई के पात्र बानी । २०६३ साल में एकर प्रकाशन पूरा भइल बा । ई […]