The biggest Bhojpuri digital media of Nepal
Browsing Tag

भोजपुरी

भोजपुरी के पितामह के श्रद्धांजली सभा में मुख्यमंत्री के उद्घोष : भोजपुरी भाषा माई के दुध नियन

पण्डित दीपनारायण मिश्र के श्रद्धाञ्जली सभा समापन वीरगंज, २८ बैशाख । नेपाल के भोजपुरी भाषा के भीष्मपितामह के रूप मे परिचित वरिष्ठ भोजपुरिया साहित्यकार पण्डित दीप नारायण मिश्र के याद मे काल्ह शनिचर के दिने वीरगंज नगरी मे अनेकन संघ संस्था के सहयोग मे श्रद्धांजलि सभा के आयोजना कईल गईल । पण्डित दीप नारायण मिश्र […]

अलग अलग प्याथोलोजी ल्याब के अलग अलग रिपोर्ट काहे आवेला ?

  रोग के सही पहचान करे ख़ातिर डाक्टर अनेकन किसिम के प्रयोगशाला अउरी रेडिओलोजी के जाँच करावेलन । ओसे आइल रिपोर्ट के आधार पर ही रोग के उपचार होखेला । रोग के सही पहचान ख़ातिर विश्वास करे लायक प्रयोगशाला के रिपोर्ट चहेला, माकिर हमनी के देश में प्रयोगशाला पिछे अलग अलग रिपोर्ट के घटना बारम्बार […]

ठण्डी के आड़ में रौतहट में बढल तस्करी

अमित ठाकुर।रौतहट। माघ १५ ठंण्डा के मौका ताक के तस्करसब रौतहट जिल्ला में अवैध तस्करी फेर से सुरु होगइल बा । जिल्ला प्रहरी कार्जालय रौतहट आ शस्त्र प्रहरी बल के सिविल प्रहरी नाका में कडाई करेके कहला बाद भी नाका से ठंण्डा के मौका ताक के धमाधम तस्करी होरहल बा । चौकी के ईन्चार्ज आ […]

लइकि कईसे करी पढाई शहर जा के …..

लइकि कईसे करी पढाई शहर जा के ….. पर्सा जिल्ला के पोखरिया के रहनियार सोनम यादव (बदलाइल नाम ) कक्षा १२ के पढ़ाई वीरगंज से पूरा कईला के बाद मेडिकल के पढाई करेके चाहत रहली । एकरा खातिर उनका कॉम्पीटिशन के इम्तिहान (entrance exam) देवेके रहे । एकर तैयारी करे खातिर सोनम के कोचिंग करे […]

निती आ नियत दुनु बदलल जरुरी बा 

मधेश आ मधेशी शब्द अब खाली नेपाल में ही  सिमित ना रह के एह दुनिया के लगभग सब संचार माध्यम के समाचार बनके अन्तराष्ट्रीय स्तर पर भी एगो चर्चा के विषय बन गइल बा आ ई दूनू शब्द नेपाल के तराई में रहेवाला लोग के पहचान आ शान बनगइल बा । एह दुनिया के कवनो […]

होली/ होरी/ फगुवा परिचय औरी शुभकामना

होली/होरी/फगुवा होली या होरी चाहे ठेठ भोजपुरी में बोली त फगुवा हमनी भोजपुरियन लोग के बहुते चाहिता औरी मजकुवा परब मानल जाला जवन परब बसन्त ऋतु में मनावल जाए वाला एगो महत्वपूर्ण परब ह । फगुवा परब हिन्दू पञ्चांग के हिसाब से फागुन मास के पूर्णिमा के दिन मनावल जाला । रंग औरी अबीर के […]

ई ह होरी ! (कविता )

ई ह होरी !    – गोपाल ठाकुर बाप कोहनाइल बेटासे  लोग कोहनाइल नेता से कनिया अपना बर से भउजी देवर से काहे कइलऽ बलजोरी ? कोहनाईं मत ई ह होरी !     लड़िका पर खिसिआईं मत भूलाइओ के ओके पढ़ाईं मत कुश्ती छोड़ीं, तेक्वांदो सिखाईं लमर भइल निमन त नेता बनाईं देखत रहीं […]

विश्व कविता दिवस पर आनन्द के कविता “लुट लs”

विश्व कविता दिवस पर आनन्द के कविता “लुट लs”     काठमांडू चैत ७- आनन्द कुमार गुप्ता विश्व कविता दिवस के उपलक्ष्य में भारतीय राजदुतावास काठमाडौं द्वारा नेपाल-भारत पुस्तकालय काठमाडौं में बहुभाषिक कवि सम्मेलन “पोयमाण्डू” के आयोजना भइल रहे । जेमे अलग अलग भाषा के कवि लोग आपन आपन कविता सुनवले रहे । हमरों भोजपुरी […]

गंवार !!

गंवार !! जब-जब तु कहेलु हमराके गवार । फकरसे सिना फुलके चौरा होजाला हमार ।। न जानि काहे तु हरदम रटत रहेलु शहर-बजार । स्वर्गसे सुनर ए गाउवाके अपने बा कला संस्कृति हजार ।। मन नि कि इहा नइखे होटल-रेस्टुरेन्ट ना डिस्को- बार । पर हर भोजनमे अपने माटीके मिठास भरल रहेला परिकार ।। इ […]

बिंदिया

बिंदिया (भोजपुरी उपन्यास ) लेखक – रामनाथ पांडेय प्रकाशक – भोजपुरी संसद, जगतगंज, वाराणसी द्वितीय संस्करण – वि. सं. २०२८ [gview file=”https://aapanbirgunj.com/wp-content/uploads/2016/03/Bindiya.pdf”] पीडीएफ़ के प्रीव्यू ना देखाई देहला पर कृपया पेज के रिफ्रेश करी ।  [download id=”9268″ template=”button”]

केहू मन पड़ल

किताब पढ़े लाए नीचा क्लिक करी केहु मन पड़ल (भोजपुरी कविता संग्रह ) लेखक – सुनील कुमार ‘तंग’ (तंग इनायतपूरी) प्रकाशक – भोजपुरी संस्थान, पटना संस्करण – पहिला, २०१३ [gview file=”https://aapanbirgunj.com/wp-content/uploads/2016/03/केहु-मन-पड़ल.pdf”] पीडीएफ़ के प्रीव्यू ना देखाई देहला पर कृपया पेज के रिफ्रेश करी ।  [download id=”9261″ template=”button”]

बियाह के चेतावनी !

बियाह के चेतावनी ! हर धरम के हिसाब से मानव जाती के जिनगी में सब से महत्वपूर्ण काम ह बियाह कईल | बियाह कईला के बाद लईका लोग में आचानक निश्चित कालीन बदलाव देखे के मिले ला | यी बदलाव के उमर ज्यादा से ज्यादा १ बरिस होखेला काहे की एक बरिस के भीतरे घर […]

भोजपुरी रामायण पर एक नजर

भोजपुरी रामायण पर एक नजर ओमप्रकाश जायसवाल, वीरगञ्ज के प्रकाशन में मुकुंद आचार्य भानुभक्तीय रामायणको भोजपुरी अनुवाद भोजपुरियन के बीच में लेआइल बाड़न । यह ‘भोजपुरी रामायणः भानुभक्त रामायण के भोजपुरी अनुवाद’ खातिर अनुवादक आचार्य र प्रकाशक जायसवाल दूनू जने बधाई के पात्र बानी । २०६३ साल में एकर प्रकाशन पूरा भइल बा । ई […]

भोजपुरी के संवैधानिक मान्यता के सवाल

भोजपुरी के संवैधानिक मान्यता के सवाल  विश्वभाषा भोजपुरी आज संसार में १३ करोड़ लोग के भाषा बा । भारत, नेपाल, मॉरीशस, फिजी, सुरिनाम, गोयना, टुबैगो, दक्षिण अफ्रिका, अष्ट्रेलिया, म्यान्मार, बंगलादेश, पाकिस्तान, अरब, अमेरिका आ यूरोप के कैयन देशन में भोजपुरिया लोग के बसोबास बा । हँ, एकर उद्गम के रूप में भारत आ नेपाले बा। […]

भोजपुरी भाषा हमार माई ह, लजाई काहे ?

भोजपुरी भाषा हमार माई ह, लजाई काहे ? जईसन कि आदत बा, मेट्रो मे चढ़ते हम गेटके लगे कोना मे खड़ा हो गईनी । अबही कुछ देर ही भईल रहे खड़ा भईले कि बहुत धिरे से एगो आवाज कान मे पड़ल,‘नायका दवईया से बाबूजी के आराम बा नु ?’ मुड़ के देखनी त हमरा ठीक पीछे बईठल […]

ब्राहामणबादी अवुरी अवसरबादी के सिकार सोझ जानता !

ब्राहामणबादी अवुरी अवसरबादी के सिकार सोझ जानता ! नेपाल के जनम से पहिले गोरखा राज्य के शाहबंशी राजा के आपन राज्य बढ़ावे खतिरा उकसावे के काम गोरखा राज्य के ब्राहामण लोग ही सूरु कईलख । नेपाल देश एकीकरण के लाड़ाई खतिरा सुरबीर मानल गईल क्षेत्री, राई, लिम्बू, गुरुंग, तामांग जईसन सूरबीर योद्धा लोग के मृत्यु […]

सिनेमा बिना कवन अकाज हो जाई ?

  एह सवाल के पुछे से पहिले इ पुछे के चाही कि का कहानी, लिखल, सुनावल जरूरी बा ?बा त केकरा खातिर ? लिखेवाला खातिर के पढे भ सुनेवाला खातिर ? हजारन साल पहिले राम, सीता, रावण आ लछमन के कहानी बतावल गईल । का जरूरी रहे बतावल ? अर्जुन, कृष्ण के का कहलन कुरुछेत्र […]

भोजपुरी जागरण ६ – नेपाल के भोजपुरी अउरी अश्लीलता !

“दोहा के रंग जम गईल भाषा भोजपुरी के संग अश्लीलता के साथ लडल जाव भोजपुरी के जंग“ नेपाल में भोजपुरी भाषा नेपाल देश के जनम के पहिले से चलल आइल बहुते पूरान भाषा ह । भोजपुरी भाषा एगो बहुते समृद्ध भाषा ह, एही के करते आज ई भाषा विश्व स्तर पर बहुते सुनदरता के साथ […]

भोजपुरी के छबि सुधारे मे युवा पुस्ता के जरुरी

भोजपुरी के छबि सुधारे मे युवा पुस्ता के जरुरी "चाचाजी, हम काल्हु स्कूल में डांस कईले रहनी, सभे कोई हमरा के खुबे सरहले रहे। अच्छा ! बढ़िया डांस करे ल का, कवन गाना पर डांस कईले रल ह ? जी,नेपाली गाना पर । आ हिंदी पर भी नचले रहनी, बहोत ताली बजल रहे । अच्छा, इंग्लिश […]